परवीन शाकिर शायरी कलेक्शन – वक़्त की यादें

वक़्त की यादें

 

 

Best Collection Hindi Shayari from Perveen Shakir

वक़्त  की  यादें

 

सजा  बन  जाती  है 

गुज़रे  हुए  वक़्त  की  यादें ,

न जाने  क्यों  छोड़   जाने  के  लिए 

मेहरबान  होते  हैं  लोग

 

 

Waqt Ki Yaadein

 

Saza Ban Jati Hai

Guzre Hue Waqt Ki Yaadein,

Na jaane Kyun Chod Jaane Ke Liye

Meharban Hote Hein Loog…

 

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply